TheGk

Basic Computer Knowledge In Hindi – GK In Hindi

Whatsapp Share Twitter Share Pinterest Share
Published: November 1, 2019

basic computer knowledgeकम्प्यूटर का अर्थ : ‘कम्प्यूटर ‘(Computer) शब्द की उत्पति अंग्रजी भाषा के ‘कम्प्युट ‘(Comput) शब्द से हुई है , जिसका अर्थ है ‘गणना करना ‘| यद्यपि प्रारम्भ में कम्प्यूटर का उपयोग विशेषत : गणनात्मक कार्यों के लिए किया जाता था , परन्तु अब इसका कार्य क्षेत्र बहुत बढ़ गया है |
अत: कम्प्यूटर एक ऐसी इलेक्ट्रोनिक युक्ति (electronic device) है जो दिए गए निर्देशन समूह (Set of instruction) के आधार पर सुचना (Information) को संसाधित करती है | इस निर्देशन समूह को प्रोग्राम (Program) कहते हैं |
इस प्रकार , कम्प्यूटर केवल एक गणक (Calculator) ही नहीं है बल्कि यह गणितीय तथा अगणितीय सभी प्रकार की सूचनाओं को संसाधित करने वाला उपकरण है | 

2. कम्प्यूटर का विकास – Basic Computer Knowledge In Hindi

कम्प्यूटर का विकास : 1. 1642 ई. में ब्लेज पास्कल (Blaise Pascal) ने विश्व का पहला यांत्रिक कैलकुलेटर (Mechanical Calculator) बनाया | इसे पास्कलीन (Pascalene) कहा जाता है |

2. 1833 ई. में अंग्रेज वैज्ञानिक चार्ल्स बैवेज (Charles Babbage) ने स्वाचालित कैलकुलेटर अर्थात कम्प्यूटर की पहली बार परिकल्पना की | पर 40वर्ष के अथक परिश्रम के बावजूद वे इसे बना न सके | उन्हें आधुनिक कम्प्यूटर का जन्मदाता (Father of Modern computer) कहा जाता है | कम्प्यूटर प्रोग्राम तैयार करने का श्रेय उनकी शिष्या Ada Augsta Lovelace को जाता है | उन्होंने अपने नाम पर कम्प्यूटर प्रोग्राम का नाम रखा -एडा(Ada) |

3. 1880 ई. में हर्मन होलिरिथ इ बैबेज की परिकल्पना को साकार किया | उन्होंने एक इलेक्ट्रोनिक टेबुलेटिंग  मशीन बनाइ , जो पंच कार्ड (Punch Card) की मदद से सारा कार्य स्वचालित रूप से करती थी | हर्मन होलिरिथ द्वारा पंच कार्ड के आविष्कार ने कम्यूटर के विकास में महती योगदान दिया | यही पंच कार्ड आज भी कम्प्यूटर में प्रयोग किया जाता है |

4. 1937 में होवार्ड एकिन ने पहला यांत्रिक कम्प्यूटर (Mechanical Computer) मार्क I बनाया |

आगे पढ़ें –

5. द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान (1939-45) कम्प्यूटर विज्ञान के क्षेत्र में तेजी से विकास हुआ | द्वितीय विश्व युद्ध के उपरान्त आधुनिक कम्प्यूटर के सभी प्रमुख सिद्धांतों का विकास हुआ |

6. गणना मशीन  के क्षेत्र में प्रथम क क्रांति 1946 में तब आई जब जे.पी. एकर्ट एवं जॉन मौश्ली ने विश्व के पहले इलेक्ट्रोनिक कम्प्यूटर ENIAC-I (Electronic Numerical Integrator And Calculator) का अविष्कार किया | इसमें स्विच के रूप में इलेक्ट्रोनिक वाल्वया वौक्युम ट्यूब का उपयोग किया गया था |

7. कम्प्यूटर के विकास में सर्वाधिक योगदान जान वान न्यूमैन का है | जान वान व्युमैन ने 1951 में कम्प्यूटर क्रांति को सही दिशा दी (द्वितीय क्रांति ) | उन्होंने EDVAC(Electronic Descrete Variable Automatic Computer) का अविष्कार किया | इसमें उन्होंने संचयित प्रोग्राम (Stored Program) का इस्तेमाल किया | कम्प्यूटर के कार्य के लिए द्विआधारी पद्दति (Binary System) के प्रयोग का श्रेय भी उन्हीं को जाता है |

3. कम्प्यूटर तकनीक की पड़ियां – Basic Computer Knowledge In Hindi

कम्प्यूटर तकनीक की पीढियां : कम्प्यूटर का विकास 5 विभिन्न चरणों में हुआ है  जिसके आधार पर कम्प्यूटर तकनीक को 5 पीढ़ियों में विभाजित किया गया है |इन पांच पीढ़ियों के कम्प्यूटर में अंतर उनके स्विचन अवयव के आधार पर किया जाता है |

1.`पीढ़ी:- प्रथम पीढ़ी
* काल :- 1940-52
* मुख्य इलेक्ट्रॉनिक घटक:- इलेक्ट्रॉनिक ट्यूब (वैक्यूम ट्यूब)
* मुख्य कम्प्यूटर  :-EDSAC,EDVAC,UNIVAC

2. पीढ़ी:- द्वितीय पीढ़ी
* काल :- 1952-64
* मुख्य इलेक्ट्रॉनिक घटक:- ट्रांजिस्टर
* मुख्य कम्प्यूटर  :-IBM-700,1401,1620,CDC-1604,CDC-3600,ATLAS,ICL-1901

3. पीढ़ी:- तृतीय पीढ़ी
* काल :- 1964-71
* मुख्य इलेक्ट्रॉनिक घटक:- इंटिग्रेटेड सर्किट (IC)
* मुख्य कम्प्यूटर :- IBM-360,370,NCR-395,CDC-1700,ICL-2903

4. पीढ़ी:- चतुर्थ पीढ़ी
* काल :- 1971 से अब तक
* मुख्य इलेक्ट्रॉनिक घटक:- वृहद एकीकृत सर्किट(LSI)
* मुख्य कम्प्यूटर  :-APPLE. DCM

5. पीढ़ी:- पांचवी पीढ़ी
* काल :- अनुसन्धान जारी
* मुख्य इलेक्ट्रॉनिक घटक:- ऑप्टिकल फाइबर
* मुख्य कम्प्यूटर  :- –

1. कम्प्यूटर के कार्य – Basic Computer Knowledge In Hindi

कम्प्यूटर के प्रमुख तकनीकी कार्य चार प्रकार के होते हैं –
1. आंकड़ों का संकलन तथा निवेशन (Collection and Input)
2. आंकड़ों का संचयन(Storage)
3. आंकड़ों का संसाधन (Processing) और
4. आंकड़ों या प्राप्त जानकारियों का निर्गमन या पुननिर्गमन (Output or Retrieval)|
ये आंकड़े या जानकारी लिखित , मुद्रित , श्रव्य , दृश्य , आरेखित या यांत्रिक चेष्टाओं के रूप में हो सकते हैं |

2. कम्प्यूटर की इकाइयांं

कम्प्यूटर की चार मुख्य इकाइयां होती हैं –
1. निवेश इकाई (Input Unit)
2. केद्रीय संसाधन इकाई (Central Processing Unit -CPU)
3. ब्राह्य स्मृति इकाई (External Memory Unit) और
4. निर्गम इकाई (Output Unit) |
डेटा को कम्प्यूटर में  इनपुट यूनिट ‘ के द्वारा प्रविष्ट किया जाता है ,’ सेन्ट्रल प्रोसेंसिग यूनिट ‘ द्वारा आवश्यकतानुसार ‘एक्सटर्नल मेमोरी यूनिट ‘ के सहयोग से डेटा को व्यवस्थित तथा संसाधित किया जाता है और अंत में ‘ आउटपुट यूनिट ‘ द्वारा उन्हें डेटा या इन्फोर्मेशन के रूप में निर्गमित किया जाता है |

CPU को ‘कम्प्यूटर का मस्तिष्क ‘ कहा जाता है | CPU को माइक्रो प्रोसेसर भी कहा जाता है | माइक्रो प्रोसेसर का अविष्कार रोबर्ट नॉयस एवं गार्डन मुर (Gordon Moore) ने 1971 ई. में किया |

कम्प्यूटर की इकाइयां – 

1. इनपुट यूनिट (के बोर्ड , माउस , स्कैनर, पंच कार्ड ,डिस्क आदि )
2. सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (CPU)(सेंट्रल मेमोरी यूनिट ,कण्ट्रोल यूनिट ,अरिथमेटिक लॉजिकलअक|ALU)
3. एक्सटर्नल मेमोरी यूनिट
4. आउटपुट यूनिट (स्क्रीन ,प्रिंटर , डिस्क आदि )

Basic Computer Knowledge Basic Computer Knowledge For Competitive Exams Basic Computer Knowledge For Interview Basic Computer Knowledge In Hindi Basic Knowledge Of Computer Application Basic Knowledge Of Computer For Interview Basic Knowledge Of Computer Science Computer Basic Knowledge In Hindi Computer General Knowledge Computer Ka Basic Knowledge Computer Ka Basic Knowledge In Hindi Computer Ki Basic Knowledge