Gk In Hindi

Digestive System In Hindi – पाचन तंत्र के बारे में जानें

Whatsapp Share Twitter Share Pinterest Share
Published: July 19, 2021

Digestive System In Hindi – पाचन तंत्र

कई सारे अंग किए गए भोजन को मिलकर पचाने का काम करते हैं उसे हम पाचन तंत्र कहते हैं | मनुष्य में पाचन तंत्र की क्रिया मनुष्य के मुंह से ही चालू हो जाती है , मुंह में भोजन पचाने का काम मुंह के अंदर लार द्वारा होती है | जब मनुष्य भोजन करता है तो उस भोजन में लार अच्छी तरीके से मिक्स हो जाती है
जिससे भोजन चिपचिपा हो जाता है | जिससे आहार नली से अंदर जाने में मदद मिलती है मुंह में तीन जोड़ी लार ग्रंथि होती हैं जिसमें से सबसे बड़ी पैरोटिड लार ग्रंथि होती है |

लार ग्रंथियां -(Digestive System In Hindi)

  • 1.लघु ग्रंथि
  • 2.वृहदग्रंथि
  • 3. पैरोटिड ग्रंथि

इन ग्रंथियों में श्लेष्म (म्यूसिन) तथा टायलिन एंजाइम होता है, टायलिन भोजन की मण्ड (चोकर) को शर्करा में परिवर्तित करता है और म्यूसिन लुग्दी या भोजन को चिकना बनाता है, और साथ टायलिन भोजन में जो भी जो भी हानिकारक बैक्टीरिया होते हैं उन को नष्ट करने का काम करता है |

मनुष्य में लगभग 24 घंटे में एक से डेढ़ लीटर लार बनती है, इस तरह से भोजन को पचाने में लार की बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका है |

इसके बाद भोजन मुख गुहा से होते हुए ग्रास नली की ओर जाता है | ग्रास नली 25 सेमी. लंबी होती है | ग्रास नली से भोजन को नीचे लाने का की क्रिया को क्रमांनुकुचक कहते हैं , क्रमांनुकुचक क्रिया धीरे धीरे भोजन को पेट (आमाशय ) तक लाती है |

आमाशय क्या है ?

पेट को आमाशय कहते है यह तीन भागों में बटा होता है इसके पहले वाले भाग में हाइड्रोक्लोरिक अम्ल होता है| जो भोजन को अम्लीय बनाता है , तथा मध्य वाले भाग में रुजी नामक कांटेदार संरचना होती है,

जो भोजन को लगभग 4 घंटे रोक कर रखती है | अब जैसे ही भोजन लास्ट वाले भाग में पहुंचता है | जहां जठर ग्रंथि होती है जठर ग्रंथि में जठर रस निकलता है | जठर रस में 3 एंजाइम होते है|
पेप्सिन एंजाइम – इसके द्वारा प्रोटीन का पाचन होता है। साथ ही प्रोटीन को पेप्टोन में बदल देता है |
रेनिन एंजाइम – यह दूध को दही मे बदलकर केसीन प्रोटीन का पाचन करताहैं।
मयूसीन एंजाइम – यह HCL (हाइड्रोक्लोरिक अम्ल) के प्रभाव को कम करता है|

पेप्सिन एंजाइम –

जो प्रोटीन को पेप्टोन में बदल देता है | फिर भोजन छोटी आंत मे जाता है | छोटी आंत मे अग्नाशय से निकलने वाले एंजाइम और साथ ही पित्ताशय से निकलने वाला पित मिलते हैं. जिससे भोजन को पचाने मे मदद मिलती है |

अग्नाशय

अग्नाशय में 3 एंजाइम होते हैं ‘ट्रिप्सिन ,एमाइलेज , लाइपेज ‘ ट्रिप्सिन पेप्टोन को पेप्टाइड में बदलता है
एमिलेज़ स्टार्च (चोकर या मण्ड) को ग्लूकोज और माल्टोज में तोड़ देता है। और लाइपेज वसा का पाचन करता है |

पित्ताशय

पित्ताशय से पित रस निकलता है जो एंजाइम न होते हुये भी पाचन क्रिया मे बहुत मदद करता है क्योकि जब भोजन पेट से निकलता है तो वह अम्लीय होता है ‘ अम्लीय भोजन छोटी आंत मे नही पचता है |

छोटी आंत

छोटी आंत को क्षुद्रांत भी कहते है . यहा पर 5 प्रकार के एंजाइम पाये जाते है. सुक्रोज,माल्टेज़,लैक्टेज़,लाइपेज़,इरेपसीन

Biology Questions In Hindi

About digestive system Digestive System Digestive System In Hindi Manav Pachan Tantra Manushya Ka Pachan Tantra

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *